मुक्तक · Reading time: 1 minute

एक दुआ सब के लिए

(पिरामिड)

1
मैं
एक
फकीर
माँगू दुआ
सलामती की
चैन भाईचारा
हो दुनियाँ भर में

2
मैं
भक्त
माता का
करूँ स्वयं
ईश वन्दना
माता हो प्रसन्न
लगाए जग पार

स्वलिखित
लेखक संतोष श्रीवास्तव भोपाल

23 Views
Like
707 Posts · 19.5k Views
You may also like:
Loading...