कविता · Reading time: 1 minute

एक दीवाना ऐसा भी

इश्क का भूत चढ़ता है और
वक्त के चलते
उतर भी जाता है लेकिन
एक दीवाना ऐसा भी
जिसे राख के ढेर से
इस कदर दीवानगी हुई कि
वह उसकी आंखों में धूल
झोंकती है
हवा में उसे उड़ाती है
जमीन पर जोरों से पटकी लगाती है
उसे मारती है
पिटती है
कूटती है
गाली देती है
डांट पिलाती है
इतनी दीवानगी की कहीं कोई
ठोस वजह नहीं लेकिन
यह दीवानगी ठहरती ही नहीं
बढ़ती ही जाती है
यह जो जादू टोना है
इश्क का भूत
काश खुदा सबकी किस्मत में
ऐसा ही सिरफिरा दीवाना
लिखे।

मीनल
सुपुत्री श्री प्रमोद कुमार
इंडियन डाईकास्टिंग इंडस्ट्रीज
सासनी गेट, आगरा रोड
अलीगढ़ (उ.प्र.) – 202001

1 Like · 4 Comments · 31 Views
Like
298 Posts · 15.6k Views
You may also like:
Loading...