एक तस्वीर उतारी

एक तस्वीर उतारी अल्फ़ाज़ की ।
जुबां गुजारिश रही आवाज़ की ।

खनके न तार मचलकर कोई,
ख़ामोश शरारत रही साज की ।

देखता रहा आसमान हसरत से,
हसरत परिंदा रही परवाज की ।

करते रहे रक़्स अश्क़ निग़ाहों में ।
टूटे घुँघरू ख़ामोश अदा रियाज की।

चला न कोई सितारा साथ चाँद के ,
डूबते चाँद ने मग़रिब की लाज की ।

…. *विवेक दुबे”निश्चल”*@..
डायरी 6(23)

Like 1 Comment 2
Views 4

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing