.
Skip to content

एक चेहरा नजर आया

शिवम राव मणि

शिवम राव मणि

शेर

November 13, 2017

~~~~एक चेहरा नजर आया~~~~

हदों की हद लकीरें, लाँघनी कितनी आसान थी
लाँघकर देखा, तो एक चेहरा नजर आया
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

कोई टोके मुझे इस तरह, कोई रोके मुझे इस तरह
कि जुबान भी खुली और मैं खुद भरमाया

किसी के साथ दो टूक तो किसी के साथ बेतूकी
इल्जामों में घिरा, तो एक चेहरा नजर आया
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

किसी का स्नेह भी इतना है मेरे मोह से
वो कहे तो भव की साँची, मैं कहूँ तो इच्छाओं की काया

लिपटा हूँ आज तुम्हारे प्रेम के सम्बल पर
जरा अजमाइश को छोड़ा, तो एक चेहरा नजर आया
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

परेशानियों में उलझकर, जब मेरी बोखलाहट तरसी
कि यूँ मेरी आवाज उठी और मैं चिल्लाया

तब एक डरा सहमा-सा, मुझसे दूर जाता हुआ
उस मासूम का खफा, तो एक चेहरा नजर आया
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

अब खुद को पिरोये बैठा हूँ, तुम्हारी खामोशी में
एक खिलखिलाहट भी सुनी, तो खुद को सँभाल न पाया

हदों की हद लकीरें, लाँघनी कितनी आसान थी
लाँघकर देखा, तो एक चेहरा नजर आया
– शिवम राव मणि

Author
Recommended Posts
मेरा साया
???? खामोश एहसासों में एक धुंधला सा चेहरा उभरता है। तू जिन्दगी है मेरी, आके हाउले से मेरी कानों में कहता है। उसकी एक छुअन... Read more
नजर..।।
??..नजर..?? नजर ने नजर को जब नजर से बुलाया.। नजर ने नजर को तब नजर दिखाया.। ? ? नजर ने नजर से जब नजर मिलाया.।... Read more
मैं इश्क करने आया हूँ ।
इसारा कर ऐ जिंदगी, मैं कुर्बान होने आया हूँ । नफरत भरे दिल में, वफ़ा का तोहफ़ा लाया हूँ । भुला सके तो भुला मुझे,... Read more
दिल वार आया हूँ
कोई बस्ती बदल आया , कोई मकान बदल आया ... उसने एक बार क्या माँगा मैं दिल वार आया ., मुझे इन अल्लाह और भगवान... Read more