Skip to content

एक गीत- बेस्ट फ्रेंड के लिए

जयति जैन

जयति जैन "नूतन"

गीत

August 6, 2017

हर खुशी नामंज़ूर है
जो तू मुझसे दूर है
तू ही तो मेरी दोस्त है
तू ही साथ है हमदम

स्कूल से घर आना
होमवर्क का बहाना
साथ मे गप्पे लडाना
थक कर घर लौट आना
तू ही तो मेरी दोस्त है
तू ही साथ है हमदम

वो साथ साथ रहना
वो रात रात जागना
वो बार बार रूठना
वो तेज तेज बोलना
तू ही तो मेरी दोस्त है
तू ही साथ है हमदम

हर बात पे टोकना
खाते पीते रोकना
संग बिस्तर पर सोना
चादर मेरा खीचना
तू ही तो मेरी दोस्त है
तू ही साथ है हमदम !

– जयति जैन (नूतन), रानीपुर झांसी उ.प्र.

Share this:
Author
जयति जैन
लोगों की भीड़ से निकली आम लड़की ! पूरा नाम- DRx जयति जैन उपनाम- शानू, नूतन लौकिक शिक्षा- डी.फार्मा, बी.फार्मा, एम. फार्मा लेखन- 2010 से अब तक वर्तमान लेखन- सामाज़िक लेखन, दैनिक व साप्ताहिक अख्बार, चहकते पंछी ब्लोग, साहित्यपीडिया, शब्दनगरी... Read more
Recommended for you