31.5k Members 51.8k Posts

एक ग़ज़ल

मेरी_एक_ग़ज़ल

पुष्प सी थी ज़िन्दगी अब खार सी है,
क्यूं दिलों के बीच में दीवार सी है ।
जा कहीं जाकर बसा ले आशियाना,
गांव में भी आजकल तकरार सी है ।
छोड़ देंगे सांस भी लेना कहो तुम,
बात तेरी हैं सुना हथियार सी हैं ।
जा चुका है कुछ भी कहने का जमाना,
कान में उनके सुना सरकार सी हैं ।
कीमतें हर शाम को ही घट गई है,
ज़िन्दगी भी अब सुना अखबार सी है ।
-श्रीभगवान बव्वा

1 Like · 3 Comments · 54 Views
श्रीभगवान बव्वा
श्रीभगवान बव्वा
रेवाड़ी, हरियाणा
64 Posts · 1.3k Views
बस कभी कभी दिल करता है तो लिख लेता हूं । शिक्षा विभाग हरियाणा में...
You may also like: