.
Skip to content

एक कुण्डलिया छंद

सतीश तिवारी 'सरस'

सतीश तिवारी 'सरस'

कुण्डलिया

June 7, 2017

वाह-वाह की भूख भी,होती बड़ी विचित्र।
मगर कभी कहते नहीं,जाने क्यों निज मित्र।।
जाने क्यों निज मित्र,दिखाते मुझे अँगूठा।
देते उसका साथ,जो दिल से पक्का-झूठा।।
कह सतीश कविराय,हुई कम उम्र चाह की।
नहीं देखता राह,ह्रदय निज वाह-वाह की।।
*सतीश तिवारी ‘सरस’,नरसिंहपुर

Author
Recommended Posts
एक कुण्डलिया
परम्परा को तोड़ना,नव-पीढ़ी की रीत. जो कुछ गाया जा सके,वही कहाये गीत. वही कहाये गीत,सहज में जो आ जाये. अनपढ़ भी सुन बन्धु,जिसे निज लय... Read more
तीन कुण्डलिया छंद
(१) मेरे-तेरे में लगा,क्यों कर के साहित्य. दिखे न अब उर का सरस,लेखन में लालित्य. लेखन में लालित्य,कहाँ से आये भैया. रहा व्यक्ति को पूज,आज... Read more
वाह वाह क्या बात....छंद कुण्डलिया.
___________________________________ लड़ते हैं गोमांस पर, भक्षक, श्वान सियार. गिरफ्तार रक्षक करे, भ्रमित वही सरकार? भ्रमित वही सरकार, 'बीफ' दे जिसे सहारा. इसको पशु-बलि मान, नही... Read more
रूठा यार
रूठा मेरा यार,न जाने क्योँ? छोड़ा मेरा साथ, न जाने क्यों? रोयें जज्बात,न जाने क्यों? बिना बात की बात,न जाने क्यों? दिल तो था उदास,... Read more