Jan 29, 2018 · कविता
Reading time: 1 minute

एक उम्मीद हैं

एक उम्मीद है,
की उसका होना है!
उससे मिलकर बस
खुद को खो देना है!!

वो एक गुड़िया है,
एक खिलौना है!
जो ना मिले तो,
बिन आँसू के रोना है!!

वो एक झील है,
मीठे रस से भरी !
में एक प्यास हूं,
खुद को डुबोना है !!

क्योंकि वो मरहम है,
मेरे हर घाव का !
इसलिये जमाने की चोट से,
चोटिल होना है !!

वो मीठी नींद है,
सर्द रात की !
वो एक सपना है,
सलोना है !!

वो जिद है,
मेरे दिल की…
कोई लाकर मिला दे उसे मुझसे,
इस दिल को,
ना किसी को पाना है,
ना किसी का होना है।।

आकर मिल तो ले वो मुझसे,
जब तक हम उसका नज़राना है !
जो हम ना रहे तब तुम्हे तो,
बस तकिए भिगोना है !!

मेरी आँखों के हसीन ख्वाब को,
तुम्हे पूरा करना है !
तुम्हे किसी और का नही,
मेरी बाहों का होना है !!

मैं दूल्हा तुम्हारा,
तुम्हे मेरी दुल्हन होना है !
हम है कायनात की सबसे हसीन जोड़ी,
हमें एक होना है !!

मृत्युंजय सिसोदिया
9549403468
mratyunjaysisodiya@gmail.com

127 Views
Copy link to share
MRATYUNJAY SISODIYA
7 Posts · 518 Views
किसी से दूर रह कर भी किसी की सोच में रहना, किसी के पास रहने... View full profile
You may also like: