.
Skip to content

एक आरजू

लक्ष्मी सिंह

लक्ष्मी सिंह

गज़ल/गीतिका

October 12, 2017

??????
एक आरजू है मेरे दिल की दिले जाना।
हो सके तो इस दिवाली पर घर चले आना।
बुझी हुई है जो तुम बिन मेरे मन की ज्योति,
रौशनी वफा से करने प्रियतम चले आना।
मेरे मन के चाँद अमावस काली रात में,
शीतल निर्मल सी किरणें लेकर चले आना।
चिर प्रतीक्षा में प्रिय जगती रही मैं रात दिन,
सातों जनम का वादा निभाने चले आना।
विरह वेदना की पीड़ा अब सही ना जाये।
गहन संताप की ज्वाला हरने चले आना।
व्याकुल मेरी आँखें एक तेरे दर्शन को,
विचलित चित में नव आश जगाने चले आना।।
????-लक्ष्मी सिंह ?☺

Author
लक्ष्मी सिंह
MA B Ed (sanskrit) My published book is 'ehsason ka samundar' from 24by7 and is a available on major sites like Flipkart, Amazon,24by7 publishing site. Please visit my blog lakshmisingh.blogspot.com( Darpan) This is my collection of poems and stories. Thank... Read more
Recommended Posts
ग़मे इश्क में हूँ बीमार.....
ग़मे इश्क में हूँ बीमार...... // दिनेश एल० “जैहिंद” गमे इश्क़ में हूँ बीमार, चले आइए ।। रहम खाइए हे सरकार, चले आइए ।। लरजते... Read more
चले जाते हो....
मुझसे नजरें मिलाकर चले जाते हो, दिल ये मेरा चुराकर चले जाते हो।। कहना चाहूँ अगर कुछ भी सुनते नही, हाथ अपना छुड़ाकर चले जाते... Read more
ग़ज़ल- मिले जो आईना कोई
ग़ज़ल- मिले जो आईना कोई ◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆ हसीँ तुम गेसुओँ मेँ दिल को उलझाने चले आना बड़ा टूटा हूँ जानेमन कि बहलाने चले आना नहीँ हमदर्द... Read more
नीम की छाँव मे
नीम की छाव मे प्यारे से गाँव मे आना मेरे बाबूजी तपती दोपहरी मे,दाऊ की कचहरी आना मेरे बाबूजी खेतो खलियानो मे,गलियां गलिहारो मे आना... Read more