23.7k Members 50k Posts

मनुज विश्व-मल ढो रहा, बनकर जगत्-कहार /गाँव सुविकसित तभी जब क्षरे हृदय-मल-चूल

बेशर्मी की नाक बन ,फैला भ्रष्टाचार|
मनुज विश्व -मल ढो रहा, बनकर जगत् -कहार|

कैसे राष्ट्र-प्रसन्नता, का फूलेगा फूल ?
गाँव सुविकसित तभी जब,क्षरे हृदय-मल-चूल|

बृजेश कुमार नायक
जागा हिंदुस्तान चाहिए एवं क्रौंच सुऋषि आलोक कृतियों के प्रणेता
08-04-2017

1 Like · 109 Views
Pt Brajesh Kumar Nayak
Pt Brajesh Kumar Nayak
155 Posts · 40.2k Views
1) प्रकाशित कृतियाँ 1-जागा हिंदुस्तान चाहिए "काव्य संग्रह" 2-क्रौंच सु ऋषि आलोक "खण्ड काव्य" 3-...