.
Skip to content

मनुज विश्व-मल ढो रहा, बनकर जगत्-कहार /गाँव सुविकसित तभी जब क्षरे हृदय-मल-चूल

बृजेश कुमार नायक

बृजेश कुमार नायक

दोहे

April 8, 2017

बेशर्मी की नाक बन ,फैला भ्रष्टाचार|
मनुज विश्व -मल ढो रहा, बनकर जगत् -कहार|

कैसे राष्ट्र-प्रसन्नता, का फूलेगा फूल ?
गाँव सुविकसित तभी जब,क्षरे हृदय-मल-चूल|

बृजेश कुमार नायक
जागा हिंदुस्तान चाहिए एवं क्रौंच सुऋषि आलोक कृतियों के प्रणेता
08-04-2017

Author
बृजेश कुमार नायक
एम ए हिंदी, साहित्यरतन, पालीटेक्निक डिप्लोमा जन्मतिथि-08-05-1961 प्रकाशित कृतियाँ-"जागा हिंदुस्तान चाहिए" एवं "क्रौंच सुऋषि आलोक" साक्षात्कार,युद्धरतआमआदमी सहित देश की कई प्रतिष्ठित पत्र- पत्रिकाओ मे रचनाएं प्रकाशित अनेक सम्मानों एवं उपाधियों से अलंकृत आकाशवाणी से काव्यपाठ प्रसारित, जन्म स्थान-कैथेरी,जालौन निवास-सुभाष नगर,... Read more
Recommended Posts
?? विश्व पर्यावरण दिवस ??
?पर्यावरण ? व्यथित हुआ पर्यावरण, देख मनुज की चाल। जितने किये उपाय हैं, उतने बढ़े सवाल।। मनुज न हो जब तक यहाँ, जीव-जगत का मीत।... Read more
हम ऐसा विश्व निर्माण करें,,,,,,
सब अहं भावना त्याग दे , निज शक्ति पर ना अभिमान करें । जहाँ रसधार प्रेम की बहती हो , हम ऐसा विश्व निर्माण करें... Read more
“  पगडंडी का बालक ”
DESH RAJ कविता Feb 18, 2017
गाँव की पगडंडी से गुजरते हुए एक बालक को हमने देखा, नन्हें हाथों में बस्ता, उसकी आँखों में आशा की किरणें देखा I उसके पेट... Read more
आत्मा से विश्व है, यह विश्व भी मैं :: जितेंद्रकमलआनंद ( पोसंट९९)
घनाक्षरी -------------- आत्मा से विश्व है , यह विश्व भी मैं ही हूँ और -- विश्व निराकार यदि मैं भी निराकार हूँ । विश्व यदि... Read more