*"उड़ते परिंदे "*

*”उड़ते परिंदे’*
🕊️🕊️🕊️🕊️🕊️🕊️🕊️🕊️
सूर्य उदित हो उजली किरणें
दो परिंदे हसीन वादियों में ,
हौसलों की उड़ान भरते ,
स्वछंद आकाश की ओर
अंनत यात्रा की ओर चले।
*शांति दूत पैगाम लेकर उड़ते हुए*
प्रकृति की खुली फिजाओं में ,
स्वच्छंद उड़ते हुए नील गगन ,
एक छोर से दूसरी छोर तक
छू लेते आसमान को
हौसला हिम्मत बढ़ाकर ,
सुकून के पलों को ढूढ़ते उड़ते।
*शांति दूत पैगाम लेकर उड़ते हुए*
ऊँची पहाड़ियां हरी भरी धरती,
खुद को नई दिशा दिखलाते
आज खुले आसमान में ,
शांति का पैगाम देकर
दूर देश से उड़ते हुए आते।
*शांति दूत पैगाम देते उड़ते हुए*
संदेश वाहक बन कर,
जहां दो पल सुकून से बैठ
दाना खाना पानी को तलाशते,
दूर गगन की छाँव
प्रकृति को निहारते हुए ,
फिर से आने का वादा करते।
*शांति दूत पैगाम लेकर उड़ते हुए*
🕊️🕊️🕊️🕊️🕊️🕊️🕊️🕊️
*शशिकला व्यास*✍️

4 Likes · 1 Comment · 31 Views
एक गृहिणी हूँ मुझे लिखने में बेहद रूचि रखती हूं हमेशा कुछ न कुछ लिखना...
You may also like: