Sep 7, 2016 · शेर
Reading time: 1 minute

उस बेवफ़ा की तरह

ये वक़्त भी गुजर गया बातोँ बातोँ मेँ,,,,,,,,,
दुरियाँ बदल न सकी मुलाकातो मेँ,,,,,,,,,
बिजलियोँ को छूने की तमन्ना सी जगी हैँ……….
यहाँ सिर्फ धुआँ हैँ तो आग कहाँ लगी हैँ……….
**** ******

चला जाऊंगा तेरी जिंदगी से ये पहचान छोड़कर,
तेरे टूटे हुए सपनो में मेरे निशान छोड़कर।
**** *****
लौट आने का दिल करे तो आ जाना मेरे हमदर्द,
मैं तो वहीं खड़ा हूँ जहाँ तुमने छोड़ा था………..
***** *******
कोई तो रोको इस बेदर्द मौसम को,
ये भी चला जाएगा उस बेवफा की तरह।
***** ******

2 Comments · 228 Views
Copy link to share
विनोद कुमार दवे
42 Posts · 5.3k Views
Follow 1 Follower
परिचय - जन्म: १४ नवम्बर १९९० शिक्षा= स्नातकोत्तर (भौतिक विज्ञान एवम् हिंदी), नेट, बी.एड. एक... View full profile
You may also like: