.
Skip to content

उस बाबा को भूल गए ?

Shri Bhagwan Bawwa

Shri Bhagwan Bawwa

कुण्डलिया

December 30, 2016

अभिव्यक्ति की आजादी,किसने दी थी बोल ?
उस बाबा को भूल गए ?
कैसा है मैखोल !
कैसा है ये मैखोल,
शर्म तुमको नहीं आती,
बदल गई है दुनिया,
यहां अब भी जाति-पाति?
कह श्री कविराय,
यह लोकतन्त्र की शक्ति !
रोक नहीं सकता कोई,यहां विचारों-अभिव्यक्ति !

Author
Recommended Posts
ये कैसा शरारा है.
दरिया में ही ख़ाक हुए, ये कैसा शरारा है. साहिल पे ही डूब गए, ये कैसा किनारा है. यहाँ छांव जलाती है,मुस्कान रुलाती है. रातों... Read more
गालों पर हल्का सा उभरता ये गुलाल कैसा है
वो हमसे पूछ रहे हैं कि हमारा हाल कैसा है, उन्हें क्या बताएं कि दिल में मलाल कैसा है। उनके ख्यालों ने जो घेरा है,... Read more
ग़ज़ल-ये तुम क्यों भूल गए
ग़ज़ल-ये तुम क्यों भूल गए मैंने तुम से प्यार किया था.....ये तुम क्यों भूल गए तुमको सब कुछ मान लिया था ये तुम क्यों भूल... Read more
ग़ज़ल
वो कहते हैं हम तो ख़ुदा हो गए हैं ख़ुदा जाने वो क्या से क्या हो गए हैं कदमबोसी करते नज़र आते थे जो वो... Read more