23.7k Members 50k Posts
Coming Soon: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता

एक माँ ही होतीं है....!!

उसे अपना मान, सम्मान और साया
मानकर जीवन गुजारने वाली एक मां होती है।

एक माँ ही होती हैं….!!

एक नन्ही-सी जान को,
एक मां अपने कोख में नौ:
महिने तक रखकर उसे इस
दुनिया में जन्म देती है।
उसके आने की खुशी और
बिना कुछ बोले ही सब जान
लेने वाली एक मां ही होती है…!!

अपने कोख में वो नन्ही जान
जब हिलती है, तो उस मां को
दर्द तो होता है, लेकिन इससे
ज्यादा खुशी भी होती है….!!

बच्चा जन्म होने से पहले अपनी
मां को अहसास दिलाता है और मां
इसे महसुस कर हर पल मुसकाराती है।
जिसे वो अपना आने वाला पल
मानकर उसे दुनिया में लाती है….!!

-“मन” मनीष कलाल, चीख़ली डूंगरपुर (राजस्थान)
मो.-9610006356, 8003315586

This is a competition entry.
Votes received: 47
Voting for this competition is over.
3 Likes · 21 Comments · 563 Views
manish kalal
manish kalal
चीख़ली, डूंगरपुर (राजस्थान)
4 Posts · 944 Views
मनीष कलाल, पेशा- पत्रकारिता
You may also like: