मुक्तक · Reading time: 1 minute

उसूल

खुद के उसूल कभी कभी यूं भी तोड़ता हूँ!
खता औरो की हो और हाथ मैं जोड़ता हूँ!
~अनूप एस.

2 Likes · 21 Views
Like
244 Posts · 8.2k Views
You may also like:
Loading...