.
Skip to content

उल्फ़त में ग़म के ख़ज़ाने क्या- क्या निकले

suresh sangwan

suresh sangwan

गज़ल/गीतिका

November 29, 2016

उल्फ़त में ग़म के ख़ज़ाने क्या- क्या निकले
हम अपनी आँखों को दिखाने क्या- क्या निकले

समझा था ये दिल तो उसे ही मंज़िल अपनी
मंज़िल से आगे भी ठिकाने क्या- क्या निकले

हाय इक ज़रा मेरे लब खुलने की देर थी
फिर महफ़िल में जाने फसाने क्या-क्या निकले

तेरी ख़ुश्बू में खो गये जो उन लम्हों से
क़िताब-ए-हसरत में लिखाने क्या- क्या निकले

भरते थे जो दम कभी अपनी इक- इक बात का
उसी जुबां से आज बहाने क्या- क्या निकले

ना जाना इक उम्र तक दिल जिगर सब चाक़ हैं
हम चादर तक़िए और सिलाने क्या -क्या निकले

फूलों का इक शहर और झूलों का गांव भी
‘सरु’ खुशियों के वो पल बसाने क्या -क्या निकले

Author
suresh sangwan
Recommended Posts
कोई बतलाए आख़िर क्या करूं मैं
कोई बतलाए आख़िर क्या करूं मैं छुपाऊँ क्या मैं ज़ाहिर क्या करूं मैं 'ब'बातिन हूँ मैं ग़म में चूर लेकिन बहुत खुश हूँ बज़ाहिर क्या... Read more
आंसू कहाँ बहाने निकले
जनता को बहकाने निकले नेता वोट जुटाने निकले मंचों पर जब जंग छिड़ गयी क्या क्या तो अफसाने निकले नेता,अफसर,चमचों के घर, नोट भरे तहखाने... Read more
हैं टुन्न सभी पीना पिलाना क्या करे
दे कोई गम जो दुबारा क्या करें न कोई तुम सा हमारा क्या करें ************************* है गम तो अब बहाना क्या करें है तू तो... Read more
कितने  बदल गये हालात किसी के जाते ही ..
कितने बदल गये हालात किसी के जाते ही बदली मौसम की भी जात किसी के जाते ही गम किस बला का नाम है दर्द का... Read more