.
Skip to content

उम्मीद के दिए को बुझाया न जाएगा

Pritam Rathaur

Pritam Rathaur

गज़ल/गीतिका

September 12, 2017

आज की हासिल
ग़ज़ल
******
मुझसे किसी के दिल को दुखाया न जाए गा ।
तहज़ीब को बड़ों की मिटाया न जाए गा

तूफान लाख ग़म के ही आ जाएँ जीस्त में
उम्मीद के दिये को बुझाया न जाए गा

आज़ाद रहना चाहते आज़ाद ही रहें
पंक्षी के पर कतर के उड़ाया न जाए गा

कब तक रहे क़फस में परिन्दा ये क़ल्ब का
ज़ज़्बात और दिल में दबाया न जाए गा

बीमार को जब तक न शिफ़ा कामिला मिले
तब तक दुआ से हाथ गिराया न जाए गा

आमाल जिन्दगी में सदा रखना तुम
वरना खुदा को मुँह ये दिखाया न जाए गा

“प्रीतम” नहीं मिले जो रज़ा तेरी ऐ खुदा
सिज़्दे से तेरे सिर ये उठाया न जाएगा

प्रीतम राठौर भिनगाई
श्रावस्ती (उ०प्र०)
08/09/2017
??????????????????

Author
Pritam Rathaur
मैं रामस्वरूप राठौर "प्रीतम" S/o श्री हरीराम निवासी मो०- तिलकनगर पो०- भिनगा जनपद-श्रावस्ती। गीत कविता ग़ज़ल आदि का लेखक । मुख्य कार्य :- Direction, management & Princpalship of जय गुरूदेव आरती विद्या मन्दिर रेहली । मानव धर्म सर्वोच्च धर्म है... Read more
Recommended Posts
ग़ज़ल
ख़ूब़सूरत ग़ुनाह हो जाए। दिल ये उन पै तब़ाह हो जाए। फ़लसफ़े छोड़ दो अरे वाइज़, द़ीद की जो पनाह़ हो जाए । मेरा तेरे... Read more
मरमरी बदन तेरा धूप में न जल जाए
गैर तरही ग़ज़ल ******** 212 1222 212 1222 नाज़ हुस्न पे मत कर एक दिन ये ढल जाए आने-जाने वाला रुत पल में ही बदल... Read more
जो दरारों में दिख जाए......
जो दरारों में दिख जाए उससे उम्मीद क्या करना, जो दिलो में दिख जाए उनसे एतबार क्या करना, घर-घर दो पल की उम्मीद लिए फिरने... Read more
ग़ज़ल
तुम जो सीने लगो यार मज़ा आ जाये। आओ कुछ ऐसे करें प्यार मज़ा आ जाये। मैं ने मुद्दत से नहीं देखा सुहाना मंज़र। तेरा... Read more