उन्हे ढूँढने मे जमाने लगे थे

महफ़िल को अपनी सजाने लगे थे ।
उन्हे ढूँढने मे जमाने लगे थे ।।
उन्हे अपनी पलको पे बिठाने लगे थे।
उन्हे अपने दिल मे बसाने लगे थे ।।
सपनो मे हमको वो सताने लगे थे ।
धीरे से दिल ही दिल समाने लगे थे ।।
आंसू खुशी के हम बहाने लगे थे ।
दिल ही मे सब कुछ लुटाने लगे थे ।।
“कृष्णा” के दिल मे समाने लगे थे ।
उन्हे अपने दिल मे बसाने लगे थे ।।
✍कृष्णकांत गुर्जर

1 Like · 23 Views
Copy link to share
कृष्णकांत गुर्जर
215 Posts · 14.7k Views
Follow 3 Followers
संप्रति - शिक्षक संचालक -G.v.n.school dungriya लेखन विधा- लेख, मुक्तक, कविता,ग़ज़ल,दोहे, लोकगीत भाषा शैली -... View full profile
You may also like: