.
Skip to content

उनको अपना बना के देख लिया

Dr Archana Gupta

Dr Archana Gupta

गज़ल/गीतिका

May 11, 2017

उनको अपना बना के देख लिया
जख़्म दिल के दिखा के देख लिया

फूल तो फूल थे मगर हमने
शूलों से भी निभा के देख लिया

जानते थे असर न होगा कुछ
हाल फिर भी सुना के देख लिया

अश्क़ खारे थे यह रहे खारे
खूब इनको बहा के देख लिया

जब मिला साथ वक़्त का हमको
खोटा सिक्का चला के देख लिया

दर्द से इसकी है बड़ी यारी
इश्क में दिल डुबा के देख लिया

ज़िन्दगी रूप तेरे अनगिन हैं
“अर्चना’ सब लुटा के देख लिया

डॉ अर्चना गुप्ता

Author
Dr Archana Gupta
Co-Founder and President, Sahityapedia.com जन्मतिथि- 15 जून शिक्षा- एम एस सी (भौतिक शास्त्र), एम एड (गोल्ड मेडलिस्ट), पी एचडी संप्रति- प्रकाशित कृतियाँ- साझा संकलन गीतिकालोक, अधूरा मुक्तक(काव्य संकलन), विहग प्रीति के (साझा मुक्तक संग्रह), काव्योदय (ग़ज़ल संग्रह)प्रथम एवं द्वितीय प्रमुख... Read more
Recommended Posts
उसी ने हमें अपना बना लिया
सभी से दिल लगा के देख लिया .. दुश्मनों को भी गले से लगा के देख लिया । जो मिरे थे वो मिरे न हो... Read more
तू ही तू साँसों का धागा, आजमा कर देख लिया है....! बिखर चुके हैं मनके मनके, तुझे भुला कर देख लिया है..!! भूख नहीं मिटती... Read more
खंजर  देख  ना  कटार देख
खंजर देख ना कटार देख तू क़लम देख और धार देख आई नहीं ख़बर इक तेरी हर दिन आता अख़बार देख दिल के दरीचे खोल... Read more
सीख
Raj Vig कविता Sep 17, 2017
जंत्र मंत्र तंत्र सब करके देख लिया पंडित ज्ञानी ध्यानी सब पूछ के देख लिया । उनका कहना करना सब करके देख लिया लोगों के... Read more