23.7k Members 50k Posts
Coming Soon: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता

उनकी पायल में

कितने सावन बरसे होंगे एक ही पल में,
जब घुंघरू खनका होगा उनकी पायल में,

अरमानों के बादल में कोई आग लगाने आ जाए,
हंसने की किसको चाहत है,वो मुझे रुलाने आ जाए,

सूनापन हर देहरी पर, हर मोड़ पर सन्नाटा छाया है,
हर आहट पर ऐसा लगता है,तू ही लौट कर आया है,

फिर से जब घुंघरू खनकेगा, जीवन की कच्ची राहो में,
सावन होगा हर मौसम और बारिश होगी बाहों में।

119 Views
विनोद कुमार दवे
विनोद कुमार दवे
42 Posts · 4.4k Views
परिचय - जन्म: १४ नवम्बर १९९० शिक्षा= स्नातकोत्तर (भौतिक विज्ञान एवम् हिंदी), नेट, बी.एड. एक...
You may also like: