.
Skip to content

उनका दखल

RASHMI SHUKLA

RASHMI SHUKLA

कविता

March 20, 2017

दानिश्ता (जानबूझकर) ही वो मेरी जिंदगी में दखल देते हैं,
मेरे रुखसारों की मुस्कान को मायूसी में बदल देते हैं,
जब हम लगाना चाहते हैं उन पर इलज़ाम कोई,
वो जाने कौन सी अदल (युक्ति) से संभल लेते हैं,
क्यों मुझपे वो इख़्तियार (अधिकार) जताते हैं इतना,
मुझे दिखाने के लिए नीचा भरी महफ़िल से खामोश ही निकल लेते हैं,RASHMI SHUKLA

Author
RASHMI SHUKLA
mera majhab ek hai insan hu mai
Recommended Posts
गर मर्ज़ है कोई तो दिखा क्यों नहीं लेते
गर मर्ज़ है कोई तो दिखा क्यों नहीं देते माक़ूल हक़ीमो से दवा क्यों नहीं लेते तुम दिल में छुपी बात बता क्यों नहीं देते... Read more
शहर के लोग
Raj Vig कविता Jan 23, 2017
मेरे शहर मे जो रहते है लोग अलग से वो सब लगते हैं लोग दूसरो को नसीहत देते हैं लोग खुद सब गलत करते हैं... Read more
ख़िज़ां के रखवाले बाग में बहार आने नहीं देते
ख़िज़ां के रखवाले बाग में बहार आने नहीं देते, मेरे गुलशन के ख़ार ताजी हवा लाने नहीं देते। वो एक नज़र देख लेते मेरे बिगड़े... Read more
ग़ज़ल : प्यार में गलत फ़हमी
अपने मन में कितनी गलतफ़हमी पाल लेते हैं कुछ लोग वो प्यार नहीं करती, पर वो सारी उम्र गुजार लेते हैं लोग !! तनहाई में... Read more