उतर कर आ

प्रभो फिर से धरा पर तू उतर आ , कष्ट हरने को
यहाँ चहु ओर बैठे नाग काले , रोज डसने को

इरादें नेक हो सकते न , उनके इस जमीं पर अब
लगा कर आग दुश्मन ने , हमें छोड़ा सुलगने को

यहा खाकर बजाते है , पड़ोसी देश की वो क्यों
शरण दी मुल्क ने उन्हें , जमीं पर इस बसे रहने को

गरीबों की जलें जब झोपड़ी , तब होलि हो उनकी
नजर आते न अब आसार , लोगों के सुधरने को

कभी भूलें न करना , देश को कमजोर करने की
जरूरत गर पडी तो , हम रहे तैयार मरने को

खडे है जो जवाँ , इस देश को शत्रु से बचाने को
तभी उठती तड़प उनमें , तिरंगे में लिपटने को

सिखाता है वतन मेरा , करो सबसे मुहब्बत तुम
मगर लौं जल उठी अब , मजहबी रज बन बिखरने को

19 Views
Copy link to share
डॉ मधु त्रिवेदी
515 Posts · 31.6k Views
Follow 32 Followers
डॉ मधु त्रिवेदी शान्ति निकेतन कालेज आफ बिजनेस मैनेजमेंट एण्ड कम्प्यूटर साइंस आगरा प्राचार्या, पोस्ट... View full profile
You may also like: