Reading time: 1 minute

उड़ान भरने दो

इस मंच से जुड़े सभी काबिल रचनाकारों के नाम-

****उड़ान भरने दो****

अपनी आगोश में ये आसमान भरने दो,
ये नये परिन्दे हैं,इन्हें उड़ान भरने दो l

ये जिन्दगी जीने का हुनर सीख जायेंगे,
ज़रा सब्र रखो,इन्हें ख्वाबों में जान भरने दो l

इनका हर हर्फ क़यामत तलक आबाद रहेगा,
शर्त है कि इनके मुंह में इनकी ज़ुबान भरने दो l

अभी तो चंद गज़ का फासला ही तय हुआ है,
अपने कदमों में इन्हें सारा जहान भरने दो l

मैं थक गया तो तेरे ही पहलू में गिरूंगा,
अभी पुरजोश हूं थोड़ी थकान भरने दो l

मैं छोड़ दूंगा शायरी,गज़लों से जूझना,
बस जो चोट है उसका निशान भरने दो ll

जुबान=भाषा/आवाज

All rights reserved.

-Er Anand Sagar Pandey

40 Views
Copy link to share
Er Anand Sagar Pandey
8 Posts · 264 Views
I'm an electronics engineer and working in a private company in Rajasthan. Basically I belong... View full profile
You may also like: