.
Skip to content

****उड़ान***( एक काव्यात्मक कथा)

Neeru Mohan

Neeru Mohan

कहानी

February 7, 2017

मैं उस देश की बेटी जिसमें जन्मी सीता और सती |
मुझको मत कमजोर समझ तू ,
मैं ही धरती और नदी |

गंगा जमुना के जैसी हूँ ,
शीतल ठंडी और पवित्र |
ना कर मेला मुझको मानव |
मैं धरती की एक बेटी |

माँ से पाया जीवन मैने ,
माँ जैसी ममता रखती |
जीवन मेरा सफल हुआ है ,
पाई मैंने मानव योनि |

कीट पतंगे ना बन करके ,
आई जग में बेटी बन करके |
ना कर मेला जीवन मेरा ,
रहने दे मुझको सूची |

मैं इस जग को जीवन देती ,
देती बेटा और बेटी |
बेटा तो एक वंश बढ़ाता ,
बेटियाँ यश बढ़ाती है |
काम ऐसे वह करती हैं ,
बेटों से भी आगे बढ़ जाती है |

धरती की तो सैर सभी करते हैं ,
आसमां को छू कर आती है |
कल्पना की उड़ान वह भर्ती ,
अंतरिक्ष में पहुँच कल्पना जाती है |

हाड माँस को त्याग के भी ,
जीवन में नाम कर जाती है |
याद रखे हर नर बच्चा ,
ऐसे काम वह कर जाती हैं |

ऐ मानव जग जा तू अब ,
शक्ति को इसकी कम ना जान |
कंधे से कंधा , पग से पग ,
कदम बढ़ाती जाती है |
ऊँचाई को छू लेती है ,
ऊँची उड़ान भरके आती हैं|

रोक ना अब तू पाएगा उसको,
पर्दो में ना रख पाएगा |
ठान जो ली आगे बढ़ने की ,
पीछे न कर तू पायेगा |

समझ ना अब तू इसको कम ,
बेड़ी से बाँध ना पाएगा |
निकल पड़ी है तुझ से आगे ,
रोक ना अब तू पाएगा |

समझ इसी में है तेरी अब ,
साथ इसको तू लेकर चल |
कदम मिला संग इसके अब तू ,
कंधे से कंधा बाँध के चल |

संगी बन साथी बन इसका ,
ताकत को इसकी कम ना कर |
इस बेटी,नारी को अब तू ,
अबला समझने की भूल ना करें |

करी जो भूल तूने अब ऐसी गर्त में तू गिर जाएगा |
देखेगा जब रुद्ररूप इसका समझ ना तू कुछ पाएगा |
अंत हो जाएगा तेरा भी सृष्टि पर प्रलय जब आएगा |
***हाहाकार ही हाहाकार अपने नज़दीक तू पाएगा |***

******न मानी जो नीरू की तूने ,
नीरू(रोशनी/प्रकाश)****कभी न देख पाएगा |

Author
Neeru Mohan
व्यवस्थापक- अस्तित्व जन्मतिथि- १-०८-१९७३ शिक्षा - एम ए - हिंदी एम ए - राजनीति शास्त्र बी एड - हिंदी , सामाजिक विज्ञान एम फिल - हिंदी साहित्य कार्य - शिक्षिका , लेखिका friends you can read my all poems on... Read more
Recommended Posts
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more
इंसानियत इंसान से पैदा होती है !
एक बूंद हूँ ! बरसात की ! मोती बनना मेरी शोहरत ! गर मिल जाए, किसी सीपी का खुला मुख, मनका भी हूँ... धागा भी... Read more
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
दूरी बनाम दायरे
दूरी बनाम दायरे सुन, इस कदर इक दूजे से,दूर हम होते चले गए। न मंजिलें मिली हमको, रास्ते भी खोते चले गए। न मैं कुछ... Read more