.
Skip to content

ईश्‍वर कहा बसता है ?

bharat gehlot

bharat gehlot

कुण्डलिया

February 25, 2017

न वो मन्‍दिर में बसता है न मस्‍जिद न गुरुद्रारे में ,
वो जो रहबर है वो तो आदमी की अच्‍छाई में बसता है ,
न वो पत्‍थरो में बसता है न वो पहाडो में बसता है ,
वो जो यारब है इंसान की नेह मेंं बसता है,
न वो हवाओ मेंं बसता है न वो फि‍जाओ में बसता है ,
वो जो ईश्‍वर है वो तो कण-कण में बसता है ,

भरत कुमार गेहलोत
जालोर राजस्‍थान
सम्‍पर्क सुत्र 7742016184

Author
bharat gehlot
Recommended Posts
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
अभी पूरा आसमान बाकी है...
अभी पूरा आसमान बाकी है असफलताओ से डरो नही निराश मन को करो नही बस करते जाओ मेहनत क्योकि तेरी पहचान बाकी है हौसले की... Read more
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more