.
Skip to content

ईश्वर तेरा कैंसा जीवन.

Ranjeet GHOSI

Ranjeet GHOSI

कविता

October 13, 2017

जीवन के है रंग निराले
थोडे भूरे थोडे कारे
कही रंगनियत मिलती नहीं
कही रंगिनियत दिखती नहीं
कहीं पे मिलती धन और दौलत
कदम चूमती उनके सौहरत
कई भूके पेट खडे
नंगे बदन हैं पडे
देख के दिल भरता है
सबको सब कुछ क्यों नही मिलता है
ईश्वर तेरा कैसा जीवन
कोई धनी है कोई निर्धन
ईश्वर मेरी दुआ यही
करदे मेरी एक कही
सबके जीवन को रंग से भरदे
चाहे ज्यादा गम ,खुशी कमही दे
किसी को कुंदन ,या चंदन ही बना दे
कही मधुवन कहीं गुलशन खिलादे
कोई ज्यादा कोई कम ही खाये
किसी का काम बस रुक ना पाये
काम सभी का चलता जाये
बस भूके पेट कोई सो ना पाये..

रजीत घोसी

Author
Ranjeet GHOSI
PTI B. A. B.P.Ed. Gotegoan
Recommended Posts
साथी साथ सुहाना तेरा जीवन बगिया महकाए ।
साथी साथ सुहाना तेरा जीवन बगिया महकाए । हर मुश्किल आसान बने निज मार्ग सुगम होता जाए, रीति अनोखी इस जीवन की, धूप छाँव आए... Read more
भजन है जीवन भर का सार
आध्यात्मिक कविता --------------------------- भजन है जीवन भर का सार ------------------------------------ भजन है जीवन भर का सार। नाना भाँति बिषयों में फँसकर जीवन मत ये बिगार।।भजन...... Read more
मेरी सहेली
जिस पिता के संग मे खेली, जिस ने बना कर रखा था अपनी सहेली, उस पिता ने ही विदा कर दी मेरी डोली, आँसुओ की... Read more
मेरी सहेली
जिस पिता के संग मे खेली, जिस ने बना कर रखा था अपनी सहेली, उस पिता ने ही विदा कर दी मेरी डोली, आँसुओ की... Read more