· Reading time: 1 minute

“ईश्वर को याद करते जा”

“ईश्वर को याद करते जा” (मुक्तक)

अब, बस आगे तुम बढ़ते जा।
जीवन में तू, अच्छा करते जा।
क्या प्रभात है, क्या शुभ रात्रि;
ईश्वर को सदा, याद करते जा।

✍️पंकज कर्ण
……कटिहार।।

2 Likes · 269 Views
Like
Author
"शिक्षक"... MA. (Hindi, Psychology & Education) B.Ed , LL.B (BHU),
You may also like:
Loading...