.
Skip to content

ईर्ष्या

रकमिश सुल्तानपुरी

रकमिश सुल्तानपुरी

दोहे

February 20, 2017

दोहे।ईर्ष्या।

ईर्ष्या दुख की बावली,,,,,,,जो उर रखो सजोय ।
मान हानि धन धर्म की,,,,, तन की दुर्गति होय ।।

ईर्ष्या मन का रोग है,,,,,,,, करो त्वरित उपचार ।
देख विरोधी का भला,,,,,,, खुद पर करे प्रहार ।।

ईर्ष्या की औषधि अमिट, मन में रही जो व्याप्त ।
राम योग सन्तोष से,,,,,,,,,, दैनिक ध्यान प्रयाप्त ।

©राम केश मिश्र

Author
रकमिश सुल्तानपुरी
रकमिश सुल्तानपुरी मैं भदैयां ,सुल्तानपुर ,उत्तर प्रदेश से हूँ । मैं ग़ज़ल लेखन के साथ साथ कविता , गीत ,नवगीत देशभक्ति गीत, फिल्मी गीत ,भोजपुरी गीत , दोहे हाइकू, पिरामिड ,कुण्डलिया,आदि पद्य की लगभग समस्त विधाएँ लिखता रहा हूं ।... Read more
Recommended Posts
फिर तीन दोहे।
फिर तीन दोहे - मन को पावन राखिये, तन सा निर्मल आप । धन का सदुपयोग कर,,,,,,,,,,दूर रहे संताप ।। निर्धन धन का लालची, भले... Read more
श्री राम (प्रार्थना )
इस अंतस की पीड़ा को, कौन सुनेगा ? राम । जीवन के इस खालीपन को कौन भरेगा ? राम । मेरे मन के टेड़ेपन को... Read more
ऐसा जीवन
क्लेष,ईर्ष्या,द्वेष,क्रोध रुपी अनल का प्रभंजन यज्ञ की आहुति,उपासना एवं हवन शुद्ध,सुरभित जीवन,निर्मल मन जैसे अग्नि से तप्त हो स्वर्ण हुआ कुंदन ऐसे ही सद्भभाव की... Read more
राननवमी पर दोहे रमेश के
नवमी तिथि यह चैत की,सजा अयोध्याधाम ! जन्मे थे जहँ आज ही,दशरथ घर श्री राम !! राम राम रटते रहे, करें राम का जाप !... Read more