.
Skip to content

ईमारत है ये…सदियों से ऐसी ही रहे!!

Akib Javed

Akib Javed

कविता

November 10, 2017

जूठ,फरेब,मक्कारी से दूर
स्वार्थ,अज्ञानता,तिरस्कार को भूल
सबकी सुने,किसी से कुछ ना कहे
ईमारत हैं ये,
सदियों से ऐसी ही रहे!
कई राज़ों को खुद में समेटे
पीढ़ियों को सामने से देखे
गुज़रती चली जा रही हैं ये
ईमारत हैं ये,
सदियों से ऐसी ही रहे!
किसी ने चोट पहुंचाई
किसी ने मरम्मत करवाई
किसी ने की खूब लड़ाई
प्यार,स्नेह,लाड भी पाई
सबकी सुने,किसी से कुछ ना कहे,
ईमारत हैं ये
सदियों से ऐसी ही रहे!
बनाया हैं एक ईमारत
स्वयं करूणानिधि ने भी
स्त्री और पुरुष के मेल से
जूठ,फरेब,अज्ञानता से रखें खुद को दूर
यही यह शाश्वत ईमारत है
जिधर से चलता रहता है
जीवन-मरण का विधान
सृष्टि के रहने तक।
ये शरीर भी ईमारत हैं एक
सदियों से ऐसी ही रहे!
अब हमें करना ईश्वर प्रदत्त
ईमारत का सद्कर्म,सद्गुणो से
रख रखाव,ताकि सुरक्षित हो सके
ये जीवन हमारा जन्म-जन्मान्तर तक,
ईमारत है ये
सदियों से ऐसी ही रहे!!

®आकिब जावेद

Author
Akib Javed
कुछ लिखना चाहता हूँ,सोचता हूँ,शब्दो से खेलता हूँ,सीखता हूँ,लिखता हूँ।।
Recommended Posts
मेरी  बेटियाँ
???? जिस में महके प्यार की कलियाँ ऐसी है मेरी बेटियाँ। ? जिस में बहे सद्भावना की नदियाँ ऐसी है मेरी बेटियाँ ? घर-आँगन में... Read more
मुलाकात ऐसी हो
खिली चांदनी हो खुला आसमां हो मिले हमतुम ऐसे की बेसुध जहां हो ?????????? ?????????? रंगी फिजायें और चंचल हवायें हमे देखकर छुपके गुल मुस्कुरायें... Read more
लाडले देवर की प्यारी भाभी
*आनंद रस में गोता लगाकर पूरी मस्ती में ताज़ी तैयार कविता का आनंद ले* *लाडले देवर की प्यारी भाभी * देवर नन्द को जो रखती... Read more
इन्सान नहीं अगर नहीं साथ दिया :: जितेंद्रकमलआनंद ( पोस्ट५०)
रुबाई :: ----------- इंसान नहीं अगर नहीं साथ दिया । सत्कर्म -- धर्म किया न ही काम लिया । ' कमल ' तो सदा सत्य... Read more