.
Skip to content

ईमानदार भारत

विजय कुमार अग्रवाल

विजय कुमार अग्रवाल

कविता

March 12, 2017

[3/12, 11:10] Vijay Kumar Agarwal:
रंगो का त्योहार है आया ,घर घर देश मे कमल खिलाया
उत्तर प्रदेश की जनता बोली ,मोदी के संग खेले होली
उत्तराखंड ने साथ निभाया ,गोआ मणिपुर कठिन है भाया
शायद कुछ कमियां रह गई थी , कमल पंजाब मे खिल नही पाया
जात पात कि राजनीति अब ,अधिक समय नही चल पायेगी
सुख का सूरज उदय हो रहा ,दुःख की संध्या ढल जायेगी
भ्रष्टाचारी समझ लो तुम भी ,अब तुम्हारी बारी आयेगी
या तो भ्रष्टाचार छोड़ दो ,वरना नौकरी छूट जायेगी
खुद से पहले देश की सोचो ,तभी नौकरी चल पायेगी
आपकी ईमानदारी के सामने ,नेता की नही चल पायेगी
भारत को है स्वच्छ बनाना ,कसम यदि हम खा पायेंगे
नेता क्या मंत्री भी तुम्हारा ,बाल ना बाँका कर पायेंगे
भ्रष्टाचार से मुक्त करेंगे ,ईमानदारी के बीज बोयेंगें
सत्तर साल से फैली गंदगी ,ईमानदारी से हम धोयेँगे

विजय बिज़नोरी

Author
विजय कुमार अग्रवाल
मै पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बिजनौर शहर का निवासी हूँ ।अौर आजकल भारतीय खेल प्राधिकरण के पश्चिमी केन्द्र गांधीनगर में कार्यरत हूँ ।पढ़ना मेरा शौक है और अब लिखना एक प्रयास है ।
Recommended Posts
अब तुम आती भी हो तो बताती नही
अब तुम आती भी हो तो बताती नही एहसास अपने आने का कराती नही हवा के झरोख़ों सी आती हो चुपके से छूकर जाती नही... Read more
बेशकीमती केवल सोना नही है ।
खुद को भीड मे खोना नही है हमको दुख अब ढोना नही है मिलता है मेहनत से सबकुछ न मिले इच्छित तो रोना नही है।... Read more
ग़ज़ल।तुम्हारे प्यार की दुनिया दिवानी अब नही होती ।
ग़ज़ल।तुम्हारे प्यार क़ी दुनिया दिवानी अब नही होती। अधूरे रह गये किस्से कहानी अब नही होती । तुम्हारे प्यार की दुनिया दिवानी अब नही होती... Read more
है निवाला सामने पर तू नही
है अधूरी ज़िन्दगी अब लौट आ बिन तुम्हारे क्या ख़ुशी अब लौट आ अब सताऊँगा नही माँ मैं तुम्हें कर रहा मैं वन्दगी अब लौट... Read more