.
Skip to content

“ईद मुबारक देता हूँ “–राष्ट्रीय एकता का एलान

कृष्ण मलिक अम्बाला

कृष्ण मलिक अम्बाला

कविता

July 28, 2016

ईद के सुअवसर पर कुछ पंक्तियाँ ।
कवि कह रहा है —
“ईद मुबारक देता हूँ ”
भारत का हूँ मैं एक सिपाही
हिन्दू -मुस्लिम है सब मेरे भाई
हिन्दू हूँ बेशक , सभी को सम्मान देता हूँ
अपने धर्म के साथ, दूसरे से सीखें लेता हूँ
नहीं है दुश्मन हिन्दू मुस्लिम , क्यों व्यर्थ भड़कातें है
चार भाई ही तो है देश में , क्यों नही साथ रह पाते हैं
करता हूँ पुरे जग से आह्वान , बेशक हिन्दू बेशक मुसलमान
हिन्दू रहो बेशक , करो दूसरे धर्मों का भी सम्मान
अच्छाई बुराई सब धर्म में मिलेगी , कुछ राक्षसों का है परिणाम
नहीं तो सभी धर्म ही सुनाएँ , अमन चैन का पैगाम
एक ही डाली के हैं सब फूल
लड़ झग़ड़ने की न कर भूल
खुद भी हूँ हिन्दू , सभी हिंदुओं को कहता हूँ
क्यों नहीं रहते मिलकर तुम , यही अफ़सोस में रहता हूँ
हर धर्म में ज्ञान है अद्भुत , ले लो भाईयों जी भरकर
ज्ञान देने वाला नही है पूछता , दूसरे धर्म से हो तुम मगर
मुस्लिम भी है मेरे भाई , वफादारी धर्म की उनसे सीखो
41 रोज देते कुर्बानी , आये अक्ल तो देकर देखो
जागो हिंदुओं जागो, अब तुम जाग ही जाओ
सभी धर्म के हैं अपने भाई , इनको तुम गले लगाओ
हमेशा से हमें एक बात गयी गई है सिखलाई
हिन्दू मुस्लिम सिख ईसाई , आपस में सब भाई भाई
आज हिन्दू हो कर ओह रखवालों , पहल एक कर देता हूँ
तुम भी सभी को पहुँचाओ , ईद मुबारक देता हूँ
????????????
तुम भी सभी को पहुँचाओ , ईद मुबारक देता हूँ
©® KRISHAN MALIK 07.07.2016

Author
कृष्ण मलिक अम्बाला
कृष्ण मलिक अम्बाला हरियाणा एवं कवि एवं शायर एवं भावी लेखक आनंदित एवं जागृत करने में प्रयासरत | 14 वर्ष की उम्र से ही लेखन का कार्य शुरू कर दिया | बचपन में हिंदी की अध्यापिका के ये कहने पर... Read more
Recommended Posts
सौ सवाल करता हूँ..
सौ सवाल करता हूँ.. रोता हूँ..बिलखता हूँ.. बवाल करता हूँ.. हाँ मैं.......... सौ सवाल करता हूँ.. फिर भी लाकर उसी रस्ते पे पटक देता है..... Read more
"मैं शिक्षक हूँ"(गज़ल/गीतिका) शिक्षक हूँ मैं मैं शिक्षा की अलख जगाता हूँ जीवन को जीने की मैं बुनियाद बनाता हूँ। बेमेल सुरों को सजा मैं... Read more
ईद मुबारक
*ईद मुबारक* ********** एकता, प्रेम, सौहार्द, भाईचारे की मिसाल "ईद" को मुस्लिम देशों के अलावा अन्य देश व धर्मों के लोग भी ईद मुबारक कह... Read more
बेशक इसको वक्त कहिये
बेशक इसको वक्त कहिये या लेखनी ,सशक्त कहिये ******************** जो भी हूँ नजर आपकी हूँ बेशक मिली बेवक्त कहिये ******************** कपिल कुमार 13/11/2016