ईद का चाँद …….

ईद का चाँद …….

चाँद दिखे न दिखे इस बार तुम जरूर आ जाना,
क्योकि तुम ही हो मेरे ईद का चाँद …………………..!
!
तुम आ गये तो चाँद ने खुद-ब-खुद निकल आना,
बिन तुम्हारे क्या ईद और क्या चाँद ……. …………..!!
!
!
!
!
डी. के. निवातियाँ _____+++

Like Comment 0
Views 26

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share