Jun 28, 2016 · शेर
Reading time: 1 minute

ईद का चाँद …….

ईद का चाँद …….

चाँद दिखे न दिखे इस बार तुम जरूर आ जाना,
क्योकि तुम ही हो मेरे ईद का चाँद …………………..!
!
तुम आ गये तो चाँद ने खुद-ब-खुद निकल आना,
बिन तुम्हारे क्या ईद और क्या चाँद ……. …………..!!
!
!
!
!
डी. के. निवातियाँ _____+++

1 Comment · 27 Views
Copy link to share
डी. के. निवातिया
डी. के. निवातिया
234 Posts · 46.4k Views
Follow 9 Followers
नाम: डी. के. निवातिया पिता का नाम : श्री जयप्रकाश जन्म स्थान : मेरठ ,... View full profile
You may also like: