.
Skip to content

” इस क़दर , शरमाओ ना ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

गीत

May 17, 2017

बोलती है ,
बन्द मेरी !
लगे श्वासें ,
ठहरी ठहरी !
साकार सी –
हैं कल्पनाएं !
अब यों ही ,
भरमाओ ना !!

बंध गये हैं ,
मोह पाश !
अब देखकर ,
नये अंदाज़ !
बन्द पलकें –
बांधा समां !
इतनी भी ,
हरषाओ ना !!

नेह के रंग ,
रंग गयी हो !
मनुहार से बंध ,
सी गयी हो !
बन्ध टूटे –
देह निखरी !
अब और यों ,
मदमाओ ना !!

Author
भगवती प्रसाद व्यास
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में... Read more
Recommended Posts
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more
निकलता है
सुन, हृदय हुआ जाता है मृत्यु शैय्या, नित स्वप्न का दम निकलता है। रोज़ ही मरते जाते हैं मेरे एहसास, अश्क बनकर के ग़म निकलता... Read more
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more