इस दिल की दुआ

ऐ वक़्त न उज़ाड़ो उसे, वो बुनियाद है मेरी,
छोड़ दो मुझे मेरे इस हाल पर, ये फ़रियाद है मेरी।
करता हूँ मैं दुआ उनकी सलामती का हर पल,
वो कोई मामूली इंसा नहीं, वो क़ायनात है मेरी।।

3 Likes · 223 Views
अपने माता पिता के अरमानों की छवि हूँ मैं, अँधेरों को चीर कर आगे बढ़ने...
You may also like: