.
Skip to content

इश्क़ होता तो रुकता

Yashvardhan Goel

Yashvardhan Goel

गज़ल/गीतिका

September 8, 2016

हर बार वही झुकता
सही था
गलत बता के निकल लिया

इश्क़ होता तो रुकता
ज़रूरत थी
हादसा बता के निकल लिया !!!!!!

Author
Recommended Posts
हादसा बता के निकल लिया !
हर बार वही झुकता सही था , गलत बता के निकल लिया ! इश्क़ होता तो रुकता ज़रुरत को , हादसा बता के निकल लिया... Read more
इरादा कर लिया क्या
इश्क़ करने का इरादा कर लिया क्या बर्बाद होने का इरादा कर लिया क्या कश्ती अपनी तूफानों में ले चले डूबने का इरादा कर लिया... Read more
उनको अपना बना  के देख लिया
उनको अपना बना के देख लिया जख़्म दिल के दिखा के देख लिया फूल तो फूल थे मगर हमने शूलों से भी निभा के देख... Read more
तू ही तू साँसों का धागा, आजमा कर देख लिया है....! बिखर चुके हैं मनके मनके, तुझे भुला कर देख लिया है..!! भूख नहीं मिटती... Read more