23.7k Members 50k Posts

इश्क़ में डूबने से दिल को बचाऊँ कैसे

इश्क़ में डूबने से दिल को बचाऊँ कैसे
ये है सागर से भी गहरा ये बताऊँ कैसे

हर जगह आप ही हमको तो नज़र आते हो
दूर जाना भी अगर चाहूं तो जाऊँ कैसे

खारे पानी का समन्दर है जिधर भी देखो
प्यास मैं अपनी बुझाऊँ तो बुझाऊँ कैसे

कैसा तूफान उठा आज मेरी बस्ती में
रेत का घर है हवाओं से बचाऊँ कैसे

अब समझ आता नहीं तुझसे यहां मिलने को
मैं नये रोज बहाने भी बनाऊँ कैसे

है चमक आँखों में , खिलती ये गुलाबी रंगत
राज़ इस दिल का बता दे मैं छुपाऊँ कैसे

दिल धड़कने से भी बेचैनियाँ बढ़ जाती है
रोग है प्रेम का उपचार कराऊँ कैसे

झूठ इस दिल ने ही बोला भी है माना भी है
इस को मैं आइने जैसा ही बताऊँ कैसे

बसते हैं ‘अर्चना’ आंखों में तुम्हारे सपनें
बह न जायें कहीं इनको मैं रुलाऊँ कैसे

08-12-2017
डॉ अर्चना गुप्ता

127 Views
Dr Archana Gupta
Dr Archana Gupta
मुरादाबाद
916 Posts · 94.5k Views
डॉ अर्चना गुप्ता (Founder,Sahityapedia) "मेरी प्यारी लेखनी, मेरे दिल का साज इसकी मेरे बाद भी,...
You may also like: