.
Skip to content

इश्क़ बला क्या है

डी. के. निवातिया

डी. के. निवातिया

शेर

April 29, 2017

इश्क़ बला क्या है

**********************
तुमसे चाहत तो हमे भी बेपनाह है
मगर क्या करे जताने का अंदाज नही आता
खुदा ही जाने ये इश्क़ बला क्या है,
अहसास तो बहुत है मगर बताने का अंदाज नही आता .
तुम ऐसे रच बस गये हो मुझ में,
जिंदगी तो है तेरे बगैर, मगर ज़िंदा रहना नहीं आता . .!!

!
— डी के निवातिया—

Author
डी. के. निवातिया
नाम: डी. के. निवातिया पिता का नाम : श्री जयप्रकाश जन्म स्थान : मेरठ , उत्तर प्रदेश (भारत) शिक्षा: एम. ए., बी.एड. रूचि :- लेखन एव पाठन कार्य समस्त कवियों, लेखको एवं पाठको के द्वारा प्राप्त टिप्पणी एव सुझावों का... Read more
Recommended Posts
"हंसना नही आता, हमे रोना नही आता रहूं पास जो तेरे,तो खफा होना नही आता, लिखे थे यहां मुकद्दर मे कुछ साज जो मेरे आज... Read more
वो दर ओ बाम क्यूँ नहीं आता,,
इक दिया आम क्यूँ नहीं आता, वो दर ओ बाम क्यूँ नहीं आता,, एक ही शख़्स क्यूँ ज़बाँ पर है, दूसरा नाम क्यूँ नहीं आता,,... Read more
इरादा कर लिया क्या
इश्क़ करने का इरादा कर लिया क्या बर्बाद होने का इरादा कर लिया क्या कश्ती अपनी तूफानों में ले चले डूबने का इरादा कर लिया... Read more
** ऐ हुस्नवाले **
ऐ हुस्नवाले तूं इश्क का एहतिराम कर यूं ठुकरा ना बेदर्दी इबादत-ए-इश्क । तेरी फ़ितरत नही क्या फ़जल-ए-दोस्त अदावत है किस वज़ह से इजहार कर।... Read more