इश्क़ निभाया जाए।

रब की मर्जी अब कैसे ठुकराया जाए।
अच्छा होगा हंसकर सब अपनाया जाए।
नज़दीकी बीमार करेगी, बेहतर है-
अलग-अलग ही रहकर इश्क़ निभाया जाए।

Like Comment 0
Views 4

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share