इश्क़ करना नहीं

इश्क पर तुम किताबें लिखे जा रहे हो ।
मशवरा है मेरा इश्क करना नहीं ।
दर्द कागज पे अपने लिखे जा रहे हो ।
मशवरा है मेरा दर्द कहना नहीं ।

मुस्कुराने की उनकी अदब देखिए तो ।
देखकर यूँ ही खुद से फिसलना नहीं ।
लाख कह लें तुम्हें , तुम हो मेरे लिए ।
मुस्कुराकर कभी सर झुकाना नहीं ।

चाँद तारों की बातें वो बेशक करें ।
अपने अंजुली पे सूरज उठाना नहीं ।
हमसफ़र हैं वो बस कुछ सफर के लिए ।
हर सफर अपने दिल को जलाना नहीं ।

बह रही है हवा मौसमी चारों ओर ।
इन हवा में दुपट्टा उड़ाना नहीं ।
हैं फिसलती निगाहें जमीं पे यहाँ ।
पांव कीचड़ से अपने सजाना नहीं ।

जब भी बारिश की बूंदे भींगाए तुम्हें ।
रो कर आँखों का पानी छिपाना नहीं ।
हो मोहब्बत तनिक इस धरा से तुम्हें ।
कड़कड़ाती बिजलियाँ गिराना नहीं ।

भेजता हूँ बता क्या रजा है तेरी ।
चिट्ठियों का भी अब तो जमाना नहीं ।
तोड़ दो तुम भले उस कलम की जुबां ।
कोरे कागज पे गुस्सा दिखाना नहीं ।

इश्क पर तुम किताबें लिखे जा रहे हो ।
मशवरा है मेरा इश्क करना नहीं ।

✍ धीरेन्द्र पांचाल

Like 3 Comment 1
Views 5

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share