.
Skip to content

इश्क़ -ऐ- हकीकी पर शेर

Onika Setia

Onika Setia

शेर

November 10, 2017

इस जीस्त की तमन्नाएँ कहीं खाक में ना मिल जाये ,
हर तमन्ना की बस एक ही आवाज़ के हम तेरे हो जाएँ ,
इसीलिए हर एक गाम पर ऐ मेरे खुदा -ऐ- महबूब !
तेरे दामां की आरज़ू करते हैं गर मेरे हाथों में आ जाये .

तेरे ही प्यार का सहारा है शायद ,
जो इतना गम उठा लेते हैं.
वर्ना ज़रा सा अकेला रह जाये इंसान ,
उसे दुनिया वाले मिटा देते हैं.

तेरे दीदार से है मेरी जिंदगी रोशन ,
तुझे न देखूं गर एक पल भी ,
तो जिंदगी में अन्धेरा छा जाता है.

मेरी जिंदगी की शमा गुल होने जा रही है,
अभी भी वक़्त है रस्में उल्फत की खातिर तो आ जाओ .

Author
Onika Setia
नाम -- सौ .ओनिका सेतिआ "अनु' आयु -- ४७ वर्ष , शिक्षा -- स्नातकोत्तर। विधा -- ग़ज़ल, कविता , लेख , शेर ,मुक्तक, लघु-कथा , कहानी इत्यादि . संप्रति- फेसबुक , लिंक्ड-इन , दैनिक जागरण का जागरण -जंक्शन ब्लॉग, स्वयं... Read more
Recommended Posts
तुम से महोबत इतनी हो जाये/मंदीप
तुम से महोबत इतनी हो जाये/मंदीप तुम से महोबत इतनी हो जाये मेरे दिल में तेरा दिल बस जाये। जिस भी राह से मै जब... Read more
मेरी ग़ज़ल के दो शेर
तेरे शहर में रिश्तो का कोई सम्मान नहीं होता , मेरे गांव की तरह मेहमान, भगवान नहीं होता ।। अपने हाथों से लिखते हैं तकदीर-... Read more
आसरा
जिंदगी के हर ज़हर को मय समझकर पी गया, दर्द जब हद से बढ़ा तो होंठ अपने सी गया, मौत कितनी बार मेरे पास आई... Read more
मुक्तक
वादी-ऐ-इश्क, रकीब-ऐ-सरो-सामां क्यों है मुस्कराता हुआ हर शख्स परअफ़शां क्यों है हसरत-ऐ-बज़्म थी के हम भी कहें वो भी सुने हमने कुछ शेर पढ़े हैं,... Read more