.
Skip to content

इश्क दरिया है आग का

सतीश चोपड़ा

सतीश चोपड़ा

गज़ल/गीतिका

February 16, 2017

इश्क़ दरिया है आग का, तैर कर पार करेंगे दरिया को
डूब जाएँ तो भी मुनाफा है रिश्वत क्या देनी किसी खुदा को

सुनो तमाम पूँजी लगा दी है मैंने तो इश्क़ के बाजार में
अब देखें नुकसान मुझे होता है कि फायदा दोनों को

खुशबुओं को बुला लिया है मैंने इशारों से अपने करीब
अब देखें वो आते हैं कि नहीं आते है छोड़ के चमन को

उफ्फ लोग उड़ाने लगे हैं अब मजाक मेरी दीवानगी का
हमें अब इंतजार है कि कब आते हैं जवाब देने जहान को

हमने फैंसला छोड़ दिया है खुदा पर वो ही इंसाफ करेगा
सरारत आँखों की कसक दिल की सजा ना मिले रूह को

आसमान पर सूरज और तारों का अलग रूतबा जरूर है
पर कौन भला भूल जाए जो देख ले पूनम के चाँद को

Author
सतीश चोपड़ा
नाम: सतीश चोपड़ा निवास स्थान: रोहतक, हरियाणा। कार्यक्षेत्र: हरियाणा शिक्षा विभाग में सामाजिक अध्ययन अध्यापक के पद पर कार्यरत्त। अध्यापन का 18 वर्ष का अनुभव। शैक्षणिक योग्यता: प्रभाकर, B. A. M.A. इतिहास, MBA, B. Ed साहित्य के प्रति विद्यालय समय... Read more
Recommended Posts
आतिशे इश्क से अब गुजरना मुझे
आतिशे इश्क से अब गुजरना मुझे।। बनके कुंदन सा भी तो निखरना मुझे।। गेसुओ में ये गजरा सजा लीजिए। बन के खुशबू फिजा में बिखरना... Read more
बेवफा
इश्क के दरिया मे/डुबोया हूँ खुद को खुद ही, तन्हाई मे भी रो सकूँ/मिले ऐसे हालात नही! थी वफा जब तक/खुद को जुगनू ही समझा... Read more
थोड़ा इश्क़
तुम समय काटने के लिए, इश्क़ का सहारा लेते हो! ग़ालिब की ग़ज़ले सुनकर बड़े हुएं, और अब ग़ालिब से बड़ा होना चाहते हो! तुमने... Read more
सफर मोहब्बत का
चलो फिर किस्सा मोहब्बत का सुनाते है। पुरानी इश्क की गली से घूम आते है।। ठिठुरते बैठना दहलीज, सर्द रातों में। पल इंतजा के जहाँ... Read more