.
Skip to content

इश्क-ए-वफा

राहुल कु

राहुल कु "विद्यार्थी"

कविता

August 26, 2017

तू पाले थी नफरत दिल में
मैंने तो था पाला प्यार
तेरी नफरत सच्ची थी पर
झूठा न था मेरा प्यार
तेरा नफरत जीत गया है
हारा है आज मेरा प्यार
बोलो सनम तूने क्यों उजाड़ी
बसा बसाया यह संसार
दिल होता है नाजुक प्रिये
नहीं सह पाता कोई वार
हो गया है घायल अब तो
जो किये तूने बातों का प्रहार
सुनो बात तू मेरा प्रिये
दिल तुम्हारे था किए हवाले
नाम लिखा था उस पर तेरा
था जो पहले कोरे-कोरे
पर शायद सब निष्काम हुआ
नफरत भी सरेआम हुआ
इंतजार किया बहुत मैं तेरा
पर सब है अब बेकार हुआ
सुनो प्रिये फिर बात मेरी
आज हुई जो जीत तेरी
खुशी है इस बात का मुझको
पर अफसोस भी है….भूलाने का तुझको
**************************************

Author
राहुल कु
राहुल कु विद्यार्थी मुंगेर (बिहार) 7739000555 विशेष विधा:- प्रेम मनुहार
Recommended Posts
आज मन फिर हुआ है कंवारा प्रिये
आज मन फिर हुआ है कंवारा प्रिये, आज मौसम भी लगता है प्यारा प्रिये, तेरी चाहत में बहका है मन ये मेरा, तेरी यादों में... Read more
चाँद सा मुखड़ा तेरा
सुंदर सलोनी सूरत है उर चाँद सा मुखड़ा तेरा दिल -- जो हेै -- मेरा दिलदार मगर है तेरा प्यार मेरा तू मगर परवाना दिल... Read more
बस यूँ ही
तुम रात चाँद की चाँदनी हो,मैं सुबह से पहले भोर प्रिये! मीठी धुन हो संगीत की तुम,मैं धड़कते दिल का शोर प्रिये! तू बरसते सावन... Read more
??तेरी आँखों की मस्तियाँ??
पिलाए जा अपनी आँखों से प्यार के जाम। मिलाकर हृदय के शबनमी सरबती-से क़लाम।। मैं मदहोश हो जाऊँ तेरी नशीली आँखों में डूब। कभी बाहर... Read more