शेर · Reading time: 1 minute

इल्जाम

जिंदगी है के जहन्नुम दिक्कतें तमाम।
दिन का क्या कहें अब दुस्वार है शाम।
किया होता तो क़ुबूल हो जाता
नेकियों की गिनती कम हजारों इल्जाम।

1 Like · 42 Views
Like
You may also like:
Loading...