.
Skip to content

इल्जाम ऐ बेवफाई—शेर —डी के निवातियाँ निवातियाँ

डी. के. निवातिया

डी. के. निवातिया

शेर

November 3, 2016

ऐ जिंदगी किस मोड़ पर तू ले आयी
ना मैं खुद का रहा न किसी और का !!

!

दोष किस्मत का कहे या फिर कमी खुद की
मुहब्बत को सुना बहुत, आँखे दो-चार न हुई !!

जिंदगी के मोड़ पर बड़े अजीब दौर से गुजरे हम
पाक ऐ दामन के बदले इल्जाम ऐ बेवफाई मिली !!


सह लेते दर्द ऐ बेवफाई भी बड़े शौक से हम
कमबख्त दो पल की वफ़ा कर जाता कोई !!

याराना हो गया है अपना वीरानियों से
खण्डहर सा हो गया है ये दिल जब से !!

!

@______डी के निवातियाँ______@

Author
डी. के. निवातिया
नाम: डी. के. निवातिया पिता का नाम : श्री जयप्रकाश जन्म स्थान : मेरठ , उत्तर प्रदेश (भारत) शिक्षा: एम. ए., बी.एड. रूचि :- लेखन एव पाठन कार्य समस्त कवियों, लेखको एवं पाठको के द्वारा प्राप्त टिप्पणी एव सुझावों का... Read more
Recommended Posts
मुक्तक
वादी-ऐ-इश्क, रकीब-ऐ-सरो-सामां क्यों है मुस्कराता हुआ हर शख्स परअफ़शां क्यों है हसरत-ऐ-बज़्म थी के हम भी कहें वो भी सुने हमने कुछ शेर पढ़े हैं,... Read more
******  ऐ मेरी जिंदगी  *****
ऐ मेरी जिंदगी ऐ मेरी जिंदगी रूठी है क्यूं मुझसे हर ख़ुशी तेरा हर फ़लसफ़ा मुझे याद है ना जाने क्यूं मुझसे नाराज है तेरे... Read more
यादो का गुलिस्ताँ……….
तुम चले तो गये अजनबी बनकर मगर यादो का गुलिस्ताँ अभी मेरे पास है ……….! सजाए बैठा हूँ इस उम्मीद में मिलोगे कभी जिंदगी के... Read more
शेर :-- मेरे कुछ शेर -भाग -1 !!
शेर :-- मेरे कुछ शेर -भाग -1 !! दर्द दिल से रो पड़ी अब तो कलमें भी यहाँ ! कब तलक लिखते रहेंगे प्यार की... Read more