इम्तिहान की घड़ी

आज तुम्हें परखा जाएगा
किस काबिल बने हो तुम
हो लायक आगे बढ़ने के
या और मेहनत करोगे तुम।।

जो मेहनत की है सालभर
उसका निचोड़ है इम्तिहान
सीखा क्या और कितने अच्छे से
जानने का जरिया है इम्तिहान ।।

किसने कितनी मेहनत की
ये बताता है इम्तिहान
अच्छे से तैयारी करो
आ गया अब इम्तिहान ।।

इम्तिहान आने पर
थोड़ी तो फिक्र होती ही है
क्या सवाल पूछेंगे
मन में बैचेनी तो होती ही है।।

भविष्य हो तुम इस देश का
सहारा हो अपने मां बाप का
ये ज़िमेदारी तुम्हें निभानी होगी
इम्तिहान में अच्छी रैंक लानी होगी ।।

इम्तिहान तो हम रोज़ देते है
जिसमें आत्मविश्वास से सफल होते है
ये कोई उससे अलग नहीं है
बस इसका थोड़ा दबाव है
क्योंकि ये साल में या फिर
छह महीने में एक बार आता है ।।

अगर ना हो पाएं सफल कभी
हौसला नहीं हारना है कभी
इम्तिहान दोबारा भी आएगा
जीवन फिर नहीं मिलेगा कभी ।।

बच्चों के इम्तिहान की घड़ी
मां बाप के लिए भी है खास है
उनका बच्चा उनके पास है ये बात
उन सब इम्तिहानों से खास है।।

इम्तिहान आते हैं रोज़ दुनिया में
फिर उनपर क्यों डाले दबाव हम
बच्चे तो कच्चे घड़े के समान है
झेल नहीं पाएंगे जो डालेंगे दबाव हम।।

5 Likes · 54 Views
मैं एक कविता का विद्यार्थी हूं । सामान्य भाषा, जो आम लोगों को समझ आए,...
You may also like: