Sep 10, 2016 · मुक्तक
Reading time: 1 minute

इन सबको ख़ाक कर दो!

नयनों में अश्रुधारा, मन में कुँवर कन्हाई.
इन आँसुओं से हरि ने, यमुना तरल बहाई.
बढ़ता है पाप जब-जब, तब-तब धरा ये रोती;
श्रीकृष्ण जन्म लेते, सबको हृदय बधाई..

असुरों को भेजता नित आतंक पल रहा है.
रह-रह के फूटें ग्रेनेड, हमको ये खल रहा है.
कर बुद्धि को सुदर्शन, इन सबको ख़ाक कर दो;
यह काम कंस का है कश्मीर जल रहा है..

इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

19 Views
Copy link to share
Ambarish Srivastava
133 Posts · 6k Views
Follow 4 Followers
30 जून 1965 में उत्तर प्रदेश के जिला सीतापुर के “सरैया-कायस्थान” गाँव में जन्मे कवि... View full profile
You may also like: