.
Skip to content

इन्सान बडा़ है

Alka Keshari

Alka Keshari

गीत

August 30, 2017

ना हिन्दू बडा़ है ना मुसलमान बडा़ है
इन्सानियत हो जिसमें वो इन्सान बडा़ है।
एक ही अल्लाह एक ही राम हैं,
एक ही दाता के अनेकों ही नाम हैं,
ना बातें बड़ी है ना .ख़ानदान बड़ा है,
पहचान बढ़े जिससे वो अरमान बड़ा है।
ना हिन्दू………………….।
माटि के इस तन में रक्त एक ही तो है,
मौलवी हो चाहे भक्त एक ही तो है,
ना गीता बड़ी है ना कुरान बड़ा है,
फरियाद होवे जिससे वो आह्वान बडा़ है।
ना हिन्दू…………………..।
आओ मिलके दूर करें मजहबी बातें,
साथ.साथ मिलके गुजारें दिन रातें,
ना बाधा बड़ी है ना तुफान बड़ा है,

डट के रहे जो सामने इन्सान बडा़ है।
ना हिन्दू…………………..।

Author
Alka Keshari
Recommended Posts
ऊपर वाला
उस ऊपर वाले से बड़ा कोई बाज़ीगर नहीं, कब, क्या कर दे वो किसी को खबर नहीं। खरे को खोटा, खोटे को खरा बना देता... Read more
*ये जीवन बड़ा अनमोल है*
हे मानव ! ये जीवन बड़ा अनमोल है चिन्ता कैसी करे है पगले ये दुनियां बड़ी गोलमोल है ज़िन्दगी है ये अनिश्चित तू क्यों कर... Read more
बड़ी है इमारत बड़ा ये नगर है
बड़ी है इमारत बड़ा ये नगर है यहाँ छत न आँगन मगर पास घर है सवेरे सभी हड़बड़ी में निकलते बिछी चाँदनी में घरों को... Read more
परछाइयां
झूठी परछाइयाँ.... तुम देखते हो जो छोटा आदमी.... वो छोटा नहीं है.. तुम देखते हो जो, बड़ा आदमी... वो भी बड़ा नहीं है... ये सिर्फ़... Read more