Aug 24, 2016 · मुक्तक
Reading time: 1 minute

इज्जत की गऱ हो आरजू

बुलन्दी की गऱ हो आरजू तो मेहनत करना सीखिये
बन्दगी की ग़र हो आरजू तो इबादत करना सीखिये
***************************************
नही गऱ जुबां काबू में तो बहुत् मुश्किल है जनाब
इज्जत की गऱ हो आरजू तो इज्जत करना सीखिये
***************************************
कपिल कुमार
24/08/2016

बुलन्दी………ऊँचाईयों

11 Views
Copy link to share
Kapil Kumar
154 Posts · 2.4k Views
Follow 1 Follower
From Belgium View full profile
You may also like: