Skip to content

इंसान कबसे खाओगे? (मांसाहार पर दो टूक -भाग 1)

Neeraj Chauhan

Neeraj Chauhan

लेख

July 18, 2017

अपनी जीभ के स्वाद के लिए मूक और निरीह जानवरों को जो अपना निवाला बनाते हैं, मैं पूछता हूँ, इंसानों की बारी कब आ रही है? एक दर्द से कराहते हुए जानवर की गर्दन पर आरी चलाते समय तुम्हे तनिक भी दर्द नही होता है, होगा कैसे , सवाल तुम्हारी जीभ का हैं। मांस भले ही गाय का हो या किसी अन्य जीव का, मांस तो मांस हैं। मेरा मानना हैं कि मात्र गाय के मांस पर ही सियासत क्यों? गाय को तो माता का वास्ता दे दिया लेकिन बाकि अन्य जीवों की सुध कोन लेगा? क्या उनके लिए कोई कानून नहीं? क्या इंसानों की तरह उन्हें दर्द नही होता? लेकिन मनुष्य ने अब तक आदिम सभ्यता का पीछा नही छोड़ा हैं। मांस खाना आदिमानव की मज़बूरी थी। लेकिन अब भी इसे स्वाद के साथ जोड़ा जाता हैं। मांसाहार इंसान को बर्बर बनाता हैं। जंगली बनाता हैं। इसे समझना चाहिए। मांसाहारी कभी शाकाहारीयों को जीतने नहीं देंगे , क्योंकि संख्या में वे शाकाहारियों से बहुत ज्यादा है, तो भी सच बदलता नहीं हैं। मैं कहता हूँ मांस खाना इसलिए मत छोड़िये की आपके शरीर के लिए यह सही नही है, बल्कि इसलिए छोड़िये की इससे किसी मूक प्राणी की निर्मम हत्या जुडी होती हैं। भला जानवरों को मौत के घाट उतारना ये भी कोई धंधा हैं, दुनिया में और लोग भी कमा रहे हैं । क्या मासूम जानवरों की हत्या भी कोई व्यवसाय हुआ! जीभ के लिए इंसान किस हद तक गुज़र रहा है, देखकर और सुनकर कलेजा मुह को आता हैं। ऐसे में इन वहशियों से दया के नाम पर केवल प्रार्थना की जा सकती हैं कि वे ऐसा ना करे। खून का ऐसा सैलाब न बहाये। अगर ये ना रुका तो जल्द ही वो दिन दूर नही जब इंसान, इंसान को अपना ग्रास बनायेगा ये सच हैं। विश्व में कुछ जगहों पर ये हो भी रहा है। जो बेहद निंदनीय हैं। भगवान के नाम पर ना सही, नैतिकता और अहिंसा के नाम से ही सही, हमें मांसाहार बन्द करना चाहिए। आज और अभी से।
इस विषय पर मैं आगे भी बेबाक लिखता रहूँगा । मेरा अगला लेख जरूर पढ़े।

-साभार
©नीरज चौहान

Share this:
Author
Neeraj Chauhan
कॉर्पोरेट और हिंदी की जगज़ाहिर लड़ाई में एक छुपा हुआ लेखक हूँ। माँ हिंदी के प्रति मेरी गहरी निष्ठा हैं। जिसे आजीवन मैं निभाना चाहता हूँ।

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

साल का अंतिम बम्पर ऑफर- 31 दिसम्बर , 2017 से पहले अपनी पुस्तक का आर्डर बुक करें और पायें पूरे 8,000 रूपए का डिस्काउंट सिल्वर प्लान पर

जल्दी करें, यह ऑफर इस अवधि में प्राप्त हुए पहले 10 ऑर्डर्स के लिए ही है| आप अभी आर्डर बुक करके अपनी पांडुलिपि बाद में भी भेज सकते हैं|

हमारी आधुनिक तकनीक की मदद से आप अपने मोबाइल से ही आसानी से अपनी पांडुलिपि हमें भेज सकते हैं| कोई लैपटॉप या कंप्यूटर खोलने की ज़रूरत ही नहीं|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you