Reading time: 1 minute

इंसानियत

इंसानियत
********

होगा ताकतवर बहुत वो, पर भगवान तो नही है।
जमीर खरीद ले किसी का, इतना धनवान तो नही है।
.
दम तोड़ दिया इंसानियत ने, चौराहे पर चीखते चीखते
लगता तो ये शहर है, कोई वीरान तो नही है।
.
ना होगा कभी भी जुल्म, अब किसी मजलूम पर
हुकूमत का अब तक ऐसा, कोई फरमान तो नही है।
.
अमनों चैन की बस बारिशें, सदा होती रहे यहाँ
इससे बढ़कर खुदा मेरा, कोई अरमान तो नही है।
.
बनाकर भेजा है उसने तो, इंसान ही सभी को
देख लो कहीं कोई हिंदू, या मुसलमान तो नही है।
.
करेगा हिसाब ‘सुरेश’ वो, कयामत के दिन सभी का
आखिर खुदा है वो भी, कोई नादान तो नही है।

1 Like · 2 Comments · 61 Views
Copy link to share
Suresh Jadav
3 Posts · 101 Views
Deputy collector View full profile
You may also like: